Navbharat Times: अब सीजी स्लेट से होगी डिजिटल पढ़ाई

मुंबई
वर्चुअल एजुकेशन को बढ़ावा देने के मकसद से इन दिनों शैक्षणिक संस्थाएं स्टूडेंट्स को सीजी स्लेट के जरिए पढ़ा रही हैं। इन संस्थानों से मिली जानकारी के मुताबिक, बच्चों को सीजी स्लेट से खेल-खेल में शब्दों को सीखने की सुविधा मिलेगी। यह स्लेट एक डिवाइस है जो टैबलट की शक्ल में है। डिवाइस रूपी इस स्लेट की मदद से बच्चों को उनके पाठ्यक्रम की सभी सामग्रियों को एक खेल के रूप में पढ़ने में मदद मिलेगी। यह बच्चों में कठिन अभ्यासों को सीखने की तकनीक विकसित करने में मदद करेगी।
सीजी स्लेट को कॉन्वेजीनियस नामक कंपनी तैयार करती है, जो एनसीईआरटी के लिए शैक्षणिक सामग्री प्रदान करता है। यह स्लेट विभिन्न मॉड्यूल्स में प्रत्येक कक्षा और विषय के लिए मजेदार खेल बनाता है जो यह सुनिश्चित करता है कि सीखने की प्रक्रिया को चरण-दर-चरण पूरा किया जाए। कोई भी विद्यार्थी पिछले मॉड्यूल को पूरा किए बिना अगले इसके चरण में नहीं जा सकता है। पहले मॉड्यूल के पूरा होने पर ही अगला मॉड्यूल खुलेगा और उन्हें पढ़ने के लिए डिजिटल रूप में उपलब्ध होगा।

कहानियां भी सुनाती हैं ये स्लेटें

कॉन्वेजीनियस से मिली जानकारी के मुताबिक, सीजी स्लेट 3 से 12 साल की उम्र के बच्चों के लिए एक पूर्ण, किफायती और प्रीमियम शैक्षणिक टैबलट हैं। इस स्लेट के जरिए बच्चों को कक्षा से संबंधित प्रत्येक विषय के लिए खेल और अपने पाठ्यक्रम की सामग्रियों को बेहतर तरीके से पकड़ बनाने में मदद मिलती है। इसमें 500 से ज्यादा किताबों का संग्रह यानी घर है। ये किताबें इंटरैक्टिव हैं और काफी रोचक तरीके से एक से बढ़ कर एक कहानियां बच्चों को सुनाती हैं। इसका मकसद- बच्चों को इन कहानियों के माध्यम से बांधे रखना है। बच्चों को अर्थपूर्ण तरीके से जोड़ने के लिए प्रत्येक पुस्तक में शब्द खोजो और जिग्सॉ जैसे इंटरैक्टिव खेल भी शामिल किए गए हैं। बच्चों की दिलचस्पी को देखते हुए यह आमतौर पर उन्हें नीरस सिलेबस या अध्यायों को रोचक तरीके से सिखाती है। मुंबई के कई स्कूलों में इन दिनों सीजी स्लेट से पढ़ाई कराई जा रही है, ताकि बच्चे डिजिटलाइज्ड एजुकेशन की सुविधा से वंचित नहीं रहें।

Link to the original article by Navbharat Times.

%d bloggers like this: